May 23, 2024

ऑपरेशन शीशमहल

ऑपरेशन शीशमहल: 

एक टीवी न्यूज़ चैनल (टाइम्स नाउ नवभारत) के द्वारा किये गए ऑपरेशन शीशमहल के खुलासे में यह बात सामने आयी है कि जो केजरीवाल आज से 10 साल पहले जनता के पैसे से या सरकारी खर्च पर कोई बड़ा बंगला नहीं लेने की बात करते थे और गाड़ियों का काफिला नहीं लेने की बात करते थे वही केजरीवाल आज जनता के पैसे से बंगला नहीं बल्कि शीशमहल में रहने लगे हैं।

शीशमहल ऐसा कि उसके फर्श पर कोई शीशा रख दिया जाये तो पता ही न चले कि शीशा है या फिर फर्श पर लगा मार्बल आखिर वियतनाम से खासतौर पर मंगवाया ३-३ करोड़ का मार्बल जो लगा है। दरवाजा ऐसा लगा है कि दरवाजे को हाथ लगाने कि जरूरत नहीं रिमोट से ही जो खुल जाता है।

ऑपरेशन शीशमहल पर केजरीवाल और उनकी टीम के पास कोई जवाब नहीं:

टीवी चैनल (टाइम्स नाउ नवभारत) द्वारा हुवे खुलासे में यह बात सामने आया है कि केजरीवाल ने सिर्फ बंगले के रेनोवेशन में ही 45 करोड़ रुपये खर्च कर दिए हैं। और इसका जवाब पूछे जाने पर केजरीवाल तो कुछ नहीं बोल पा रहे हैं लेकिन उनके मंत्री व नेता सामने जरूर आते हैं पर उनके पास भी कोई जवाब नहीं होता वो जवाब नहीं दे पाते तो ये बोलकर चले जाते हैं कि अरे क्या हो गया अगर बना लिया 45 करोड़ का घर।
बिहार के मुख्यमंत्री को देखो, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को भी देखो, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को देखो वो भी तो रहते हैं,  प्रधानमंत्री का बंगला देखो, राष्ट्रपति का बंगला देखो, उनका भी बंगला देखो इनका भी बंगला देखो फलाने का बंगला देखो।

बात यह नहीं कि किसका बंगला कैसा है किसका महल कैसा है, बात यह है कि किसी और ने जनता से यह वायदा नहीं किया था बल्कि जनता से वायदा तो केजरीवाल जी ने किया था। और यह है उनके द्वारा दिए गए एफिडेविट पर उनके वायदे जो उन्होंने मुख्यमंत्री बनने से पहले जनता से किया था ।

जनता को किये वादे और फिर विश्वाश्घात

आप पार्टी कि बुनियाद ही इस बात पर बनी थी कि केजरीवाल जी जनता के पैसों से ज्यादा गाड़ियों का काफिला नहीं लेंगे लेकिन केजरीवाल जी तो आज जनता के पैसों से ही लक्ज़री गाड़ियों का काफिला लेकर चलते हैं
केजरीवाल जी कभी चुनाव जीतने के पहले बोले थे कि वो कोई सुरक्षा नहीं लेंगे लेकिन आज अपने साथ प्राइवेट बाउंसर्स भी लेकर चलते हो जो जरूरत पड़ने पर उनसे सवाल पूछने वालों पर हमला तक कर देते हैं।

केजरीवाल जी ने कभी बोला था कि सरकारी खर्च पर कोई बड़ा बंगला नहीं लेंगे सिर्फ ३-४ कमरों का छोटा सा मकान लेंगे, लेकिन बंगला तो छोड़िये जनाब केजरीवाल जी तो आज 45 करोड़ के शीशमहल में रहने लगे। 
ऐसा शीशमहल जिसमें 8-8 लाख के पर्दे लगे हैं।
ऐसा शीशमहल जिसमें 4-4 लाख के टॉयलेट सीट (कमोड) लगे हैं।
ऐसा शीशमहल जिसमें 1 करोड़ 4 लाख 31 हज़ार के दस टीवी लगे हैं।



ऐसा शीशमहल जिसमें रिमोट से गेट खुलता है।
जितने में दस आम आदमी का घर बन जाये उतने में केजरीवाल जी के 2 किचन बन रहे है।

केजरीवाल जी का शौक ऐसा कि 3-3 करोड़ का मार्बल वियतनाम से मंगाकर अपने शीशमहल में लगवा दिए। ऐसा क्या था वियतनाम के मार्बल में जो केजरीवाल जी ने मकराना के मार्बल को भी रिजेक्ट कर दिए जिसे कभी शाहजहां ने ताजमहल को बनवाने के लिए किया था।
बहुत भरोसा किया था हमने और दिल्ली की जनता ने आप पर आप तो ऐसे न थे।।

जब जनता के लिए ऑक्सीजन के पैसे नहीं थे तब केजरीवाल जी बनवा रहे थे अपना शीशमहल:

और ये सब केजरीवाल जी तब कर रहे थे जब देश कि जनता और दिल्ली कि जनता ऑक्सीजन के कारण कोरोना समय में मर रही थी और केजरीवाल जी के पास दिल्ली की जनता के लिए ऑक्सीजन खरीदने के लिए पैसे नहीं थे।
कमाल कि बात है न जब दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल जी के पास जनता के लिए ऑक्सीजन खरीदने के लिए पैसे नहीं थे फिर भी केजरीवाल जी अपना 45 करोड़ का शीशमहल बनवा रहे थे।।

और इतना ही नहीं बल्कि ये महल इतना छोटा पड़ रहा था कि केजरीवाल जी 4.7 एकड़ से बढ़ाकर इस महल को 7.2 एकड़ में बनवा रहे।
और अब तो केजरीवाल जी के दोस्त और उनके समर्थक पत्रकार भी केजरीवाल जी के शीशमहल पर सवाल पूछ रहे और बोल रहे कि सही है अब तो आपके भ्रम का पर्दा उठ गया जनता के सामने।

अब तो आम आदमी पार्टी समर्थक और केजरीवाल के मित्र पत्रकार भी केजरीवाल से सवाल कर रहे:

केजरीवाल जी के कट्टर समर्थक पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी के ट्वीट्स:

अजित अंजुम के ट्वीट्स:

कभी आम आदमी पार्टी के नेता रहे और केजरीवाल जी के मित्र आशुतोष के ट्वीट्स:

%d bloggers like this: